Breaking News

जानते हैं ऐसी जेल के बारे में, जहाँ नहीं है एक भी कैदी? जेलें चालू रखने के लिए पड़ोसी देश से उधार लेते हैं कैदी | Kambhakht जेल


एक तरफ दुनिया के लगभग सारे देशों में अपराध बढ़ रहे हैं, वहीं नीदरलैंड ऐसा देश है, जहाँ जेलें बंद होने की कगार पर हैं। इसका कारण वहाँ की खराब व्यवस्था नहीं, बल्कि लो क्राइम-रेट है। साथ ही जो कैदी जेल जाते हैं, उन्हें जल्द से जल्द बाहर निकालकर समाज से जोड़ने की पहल की जाती है। यही वजह है कि देश की लगभग सारी जेलें बंद हो चुकी हैं। 




कितने अपराध होते हैं यहाँ 

इस देश में हुई एक स्टडी बताती है कि यहाँ हर 1 लाख की आबादी पर केवल 61 लोग ही अपराध करते हैं, वो भी गंभीर किस्म के नहीं, बल्कि छोटे-मोटे अपराध। 

अगले तीन सालों में इतने रह जाएंगे अपराधी 

नीदरलैंड की वर्तमान आबादी लगभग 1.73 करोड़ है। इसे देखते हुए यहाँ के जस्टिस डिपार्टमेंट ने अनुमान लगाया है कि वर्ष 2023 तक पूरे देश में कुल मिलाकर सिर्फ 9,810 अपराधी रह जाएंगे। कैदियों की यह संख्या अधिकतम मानी जा रही है। 

पड़ोसी देश से उधार ले रहे कैदी

हालात ऐसे हैं कि नीदरलैंड में पड़ोसी देश नार्वे से कैदी बुलवा रहे हैं ताकि व्यवस्था चलती रहे। दरअसल नार्वे में अपराध की दर काफी ज्यादा है। बता दें कि यह व्यवस्था साल 2015 में शुरू हुई, क्योंकि नार्वे में कैदियों को रखने की जगह कम होती है। 

इस तरह की होती हैं सजाएं

नीदरलैंड में अपराध पर जेल की सजा देने की बजाए कई दूसरी सजाओं को तरजीह दी जाती है, जैसे जुर्माना भरना या सोशल वर्क से जुड़ा कोई कार्य, अस्पतालों या सरकारी दफ्तरों में काम करना आदि सजाएं सुनाई जाती हैं। इससे जेल में कैदियों की संख्या खुद-ब-खुद कम हो जाती है। 

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

इस बारे में Leiden University में क्रिमिनोलॉजी के प्रोफेसर हिल्डे वर्मिंग कहते हैं कि पैसों का जुर्माना या समाज सेवा की सजा को नीदरलैंड्स में जेल भेजने से पहले रखा जाता है। माना जाता है कि इससे अपराधी की मानसिकता में सुधार आता है। 

ऐसे रखी जाती है नजर

यहाँ कैदियों के लिए इलेक्ट्रॉनिक एंकल मॉनिटरिंग सिस्टम है। इस सिस्टम में उनके पैर में एक ऐसी डिवाइस पहनाई जाती है, जिससे उनकी लोकेशन ट्रेस की जा सके। यह डिवाइस एक रेडियो फ्रीक्वेंसी सिग्नल भेजती है, जिसमें अपराधियों की लोकेशन का पता चलता है। यदि कोई अपराधी किसी अनुमत सीमा से बाहर जाता है, तो पुलिस को सूचना मिल जाती है। यह सिस्टम देश में अपराधिक दर को आधा करने में सक्षम है। 

जेलें बंद हो जाएं तो क्या होगा 

नीदरलैंड की जेलें बंद होने पर दो महत्वपूर्ण बदलाव होंगे। सामाजिक दृष्टिकोण से देखें तो घटती अपराध दर यानी सुरक्षित देश। रोजगार के नजरिए से देखें तो जेल में काम करने वाले लगभग दो हजार लोग बेरोजगार होंगे, जिसमें से सिर्फ 700 लोगों को सरकार की तरफ से उपलब्ध कराई गई बाकी जगहों पर ट्रांसफर किया जाएगा। हालांकि जेलें बंद होना का अर्थ यह भी है कि नीदरलैंड एक देश, एक प्रणाली और नागरिकों के रूप में सफल हुआ है। 





#Bharat Ki Jail  #Alishan Jail  #Khatarnak Jail  #Darawni Jail  #Tihad Jail  #Jail 





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां