Jr jagjit Singh

श्रीराम सुपर 252 और 303 गेहूँ बीज से मध्य प्रदेश के किसानों की गेहूँ उत्पादकता बढ़ी

 



मध्य प्रदेश  के किसानों ने श्रीराम सुपर 252 और श्रीराम सुपर 303 गेहूँ बीज की उत्पादकता पर खुशी ज़ाहिर की है।श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स ने किसानों की फसल   उत्पादकता बढ़ाने में मदद करने के लिए ये आधुनिक अनुसंधान उन्मुख उत्पाद विकसित किए हैं।
श्रीराम सुपर 252 और 303 गेहूँ बीज के लॉन्च के बाद इन की लोकप्रियता बहुत अधिक बढ़ गई है और मध्य प्रदेश केविभिन्न क्षेत्रों के किसान गेहूँ की इन किस्मों को खूब पसंद कर रहे हैं।श्रीराम फ़र्टिलाइज़र्स एण्ड कैमिकल्स के विश्व-विख्यात वैज्ञानिकों ने इन किस्मों को विकसित किया।
श्रीराम सुपर 252 और 303 गेहूँ बीज इनकी अनुकूलन क्षमता और उत्पादकता के चलते ये मध्य प्रदेश,पूर्वांचलबिहार, उत्तराखण्ड एवं तराई क्षेत्रों में गेहूँ किसानों की पहली पसंद बन गए हैं।
श्रीराम सुपर 252 गेहूँ बीज की फसल में ज़्यादा  बालियाँ  व दाने बड़े और सुनहरे होते हैं और मजबूत कल्लों के कारण गिरने की शिकायत भी नहीं रहती।श्रीराम सुपर 252 जल्दी और देर से बुवाई के लिए भी उपयुक्त है।
मध्य प्रदेश के कुछ क्षेत्र में धान की फसल कटने पर गेहूँ की देर से बुवाई होती हेइस कारण इस क्षेत्र के किसानों की प्रति एकड़ गेहूँ की उपज देश के अन्य प्रांतों की अपेक्षा बहुत कम है | श्रीराम सुपर 303 गेहूँकी किस्म कम अवधि में भरपूर उत्पादन देने के साथ बीमारियों के प्रति भी सहनशील हे। श्रीराम सुपर 303 गेहूँ किस्म के दाने मोटेचमकदार और ज़्यादा वज़न के कारण बाज़ार भाव भी अधिक मिलता हे। 
 
मध्यप्रदेश  के  अम्बाह से एक  किसान  विष्णु शर्मा  ने  श्रीराम  फार्म  सोल्यूशन्स  की  ओर  से  दिए  गए  एक  डेमो  देखने  के  बाद   अपने  2.5 एकड़खेत  में  श्रीराम  सुपर  252 गेहूं  बीज  बोया| वे  अपने  इस  फैसले  से  बहुत    खुश  है  क्योंकि उनके  फसल  कि  उपज  25 क्विंटल  प्रति  एकड़ रही| उन्होंने  बताया  कि  उन्हें  इसमें  कई  विशेषताएं  देखने  को  मिली  जैसे   अधिक  कल्लो  कीसंख्या (17-18 प्रति पौधा)  , प्रति  बाली  ज्यादा  दाने  (75-80 दाने  प्रति  बाली ) ओर  उपयुक्त  पौधे  की  ऊंचाई  (लगभग  90-100 cm ) |श्रीराम  सुपर 252 की  अधिक  उत्पादकता  ओर  बेहतर  गुणवत्ता  वाली  फसल  को  देखकर  वे  अन्य  किसानो  को  इसी  की  बुवाई  करने  की   सलाह  देते  है |
 
मध्य प्रदेश के अन्य किसान श्रीराम सुपर 303 गेहूँ बीज बोने सेभी इसी तरह की सफलता पा रहे हैं| 
भोपाल के प्रगतिशील किसान अवध नारायण शर्मा ने श्रीराम  सुपर  303 बोया  था  और  साथ  ही अन्य  किस्म  की  बुवाई  भी  की  थी| वे  अपने  इस  फैसले  से  बहुत   खुश  है  क्योंकि उनके  फसल  कीउपज 27 क्विंटल प्रति एकड़ रही  जो अन्य किस्मों की तुलना में 3 क्विंटल प्रति एकड़ अधिक थी | जिसके  के कारण उन्हें  श्रीराम  सुपर  303 से  Rs6000 प्रति  एकड़का  अतिरिक्त  मुनाफा  प्राप्त  हुआ  है | उन्हें फसल गिरने की शिकायत भी नहीं है आयी और दाने मोटे, चमकदार और ज़्यादा वज़न के कारण बाज़ार भाव भी अधिक मिला । अगले  साल  वो  अपनी  पूरी  ज़मीन  पर  श्रीराम  सुपर  303 बीज  ही  लगाएंगे|
श्रीराम  सुपर  252  और 303 गेहूं  बीज  के  साथ  साथ , श्रीराम  फार्म  सोल्यूशन्स  कीअन्य  किस्मेंजैसे  श्रीराम  सुपर  111 भी  पिछले  कुछ  सालों  से  अपनी  शानदार  परफॉरमेंस  के  चलते  मध्य प्रदेश के किसानो  में  बेहद  लोकप्रिय  होगयी  हैं|  
श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स
श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स 131 वर्ष पुराने एक अग्रणी बिज़नेस ग्रुप - डीसीएम श्रीराम लिमिटेड का एकभाग हैजिसका टर्नओवर 
रु 7,767 करोड़ है। श्रीराम फार्म सोल्यूशन्स
एग्री-इनपुट जैसे बीजस्पेशलटी न्यूट्रिशन एवं फसल संरक्षण श्रेणियों के कारोबार में सक्रिय है।
 
For more information; Please contact
Atul Malikram @9755020247
 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ