Breaking News

ईंटे बनाने वाले के रूप में पैसा कमाकर क्या अलादीन जीत पाएगा रुखसार का भरोसा?

 

हर किसी का प्यारा शहज़ादा अलादीन ईंट बनाने वाले के रूप में जल्द ही अपना खून पसीना बहाता हुआ नज़र आएगा। सोनी सब के “अलादीन:नाम तो सुना होगा” के आगामी एपिसोड में अलादीन (सिद्धार्थ निगम) को रुखसार बेगम (स्मिता बंसल) के स्कूल में अपनी जगह बनाए रखने के लिए उसकी दृढ़ता की परीक्षा देनी होगा। सोनी सब के फैंटेसी ड्रामा ‘अलादीन: नाम तो सुना होगा’ में इस वक़्त सभी किरदारों के बीच एक अनोखी ऊर्जा देखने को मिलेगी जहां एक तरफ यास्मीन का शिफान (अमित रघुवंशी) के साथ रिश्‍ता लगातार बढ़ रहा है, जबकि अलादीन और गिनू (राशूल टंडन) को कोयल(शिवानी बडोनी) पर पूरा विश्वास है।

इससे पहले, अलादीन रुखसार द्वारा दिए गए अंतिम टास्क को पूरा कर लेता है लेकिन उसकी यह जीत कम समय के लिए है क्योंकि शिफान रुखसार बेगम को यह जानकारी देता है कि अलादीन ने यह टास्क किसी की मदद लेकर खत्म किया है। अलादीन के इस धोखे का पता चलने के बाद, रुखसार अलादीन को उसके स्कूल से निकाल देती है। लेकिन स्कूल में अपनी पोज़िशन बनाए रखने का दृढ़ संकल्प लिए हुए, अलादीन और गिनू रुखसार को मनाने और अपनी योग्यता साबित करने के लिए दूसरा मौका पाने की कोशिश करते हैं।

स्कूल में अपनी जगह बनाने  और उसका विश्वास जीतने के लिए, रुखसार अलादीन को खुद की कड़ी मेहनत से 10 अशर्फी (रुपए) कमाने की चुनौती देती है। शहज़ादा अलादीन, जो किसी भी जीविका के लिए काम करने का आदी नहीं है, वह इस चुनौती को स्वीकार करता है। अलादीन नौकरी ढूंढ़ना शुरू करता है लेकिन उसके प्रयास व्यर्थ हो जाते हैं। आखिरकार ईंट बनाने वाले तुगलक चाचा उसे 2 दिनों में सफलतापूर्वक चिलचिलाती भट्टी में 1000 ईंटें बनाने पर 20 अशर्फी देने का प्रस्ताव देते हैं।

क्या अलादीन इस टास्क में सफल होगा? क्या वह रुखसार का विश्वास दोबारा जीतने का रास्ता खोज पाएगा?

अलादीन की भूमिका निभा रहे सिद्धार्थ निगम ने कहा, "यह सबसे ज़्यादा चुनौतीपूर्ण और व्यस्त सप्ताह रहा है। एक तरह से मैं ईंटे बनाने की कड़ी मेहनत से गुज़र रहा हूं। सेट को बहुत ही खूबसूरती से डिज़ाइन किया गया था ताकि सीन्स असली लगें और सीन में असलीपन लाने के लिए मुझे मेरे हाथों को भट्टी और मिट्टी में डालना पड़ा। मैं इस तथ्य का पूरा आनंद लेता हूं कि बतौर अभिनेता मेरा अलादीन का किरदार हमेशा मुझे एक चुनौती देता है। मैं हमेशा कुछ नया सीखता रहता हूं और आगामी कहानी एक ऐसा ही प्रमाण है। शहज़ादा अपनी पहली कड़ी मेहनत से पैसा कमाने की कोशिश करेगा और यह देखना वाकई दिलचस्प होगा कि इस चुनौती को पूरा करने के लिए वह कितनी मेहनत और पसीना बहाता है। तो बने रहें मुझे ईंटें बनाने वाले के रूप में देखने के लिए।"

 अम्मी की भूमिका निभा रही स्मिता बंसल ने कहा, "रुखसार एक मास्टर के रूप में धोखा और झूठ बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं करती। अलादीन से निराश और गुस्सा होने के बाद, रुखसार उसे अपनी कड़ी मेहनत से पैसा कमाने का सबसे ज़्यादा कठिन टास्क चुनौती के रूप में देती है। यह देखना वाकई दिलचस्प होगा कि क्या अलादीन इस परीक्षा में सफल होता है क्योंकि यह चुनौती ही उसे स्कूल में अपनी जगह बनाने और रुखसार का विश्वास जीतने के लिए सही जगह प्रदान करेगी। सभी के साथ शूटिंग करने का अनुभव बहुत ही अच्छा रहा। स्टूडेंट्स की पूरी गैंग सेट पर कुछ शरारतें करने और मस्ती करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं और वो मेरे चेहरे पर मुस्कान लाने में कभी भी फेल नहीं होते। मुझे यकीन है कि हमारे दर्शक इन एपिसोड्स को देखते हुए उतना ही आनंद लेंगे जितना हमें शूटिंग करते हुए आया।"

 

देखते रहिए ‘अलादीन: नाम तो सुना होगा’, हर सोमवार से शुक्रवार, रात 9:30 बजे

 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां