IRPRA

“जंगल की शांति और कुदरत के करिश्मों ने मुझे महीनों तक मंत्रमुग्ध कर दिया” : राणा दग्गुबाती


राणा दग्गुबाती ने फिल्म ‘हाथी मेरे साथी’ को लेकर चर्चा की, जो 18 सितंबर को रात 8  बजे ज़ी सिनेमा पर डायरेक्ट-टू-टीवी रिलीज़ के लिए तैयार है  

ज़ी सिनेमा हमेशा अपने दर्शकों को संपूर्ण पारिवारिक मनोरंजन उपलब्ध कराने में सबसे आगे रहा है। अब यह चैनल बहुप्रतीक्षित फिल्म ‘हाथी मेरे साथी’ की एक्सक्लूसिव डायरेक्ट-टू-टीवीरिलीज़ करने जा रहा है, जिसे दर्शक अपने घर में आराम से बैठकर एंजॉय कर सकते हैं। प्रभुसोलोमन द्वारा निर्देशित यह फिल्म इंसानों और जानवरों के मजबूत रिश्ते के बारे में बात करती है। यह फिल्म बताती है कि भावनाओं की एक नाजुक कड़ी किस तरह इन दोनोंप्रजातियों को एक दूसरे से जोड़ती है। इस फिल्म में टैलेंटेड राणा दग्गुबाती, पुलकित सम्राट, श्रिया पिलगांवकर, ज़ोया हुसैन और अनंत महादेवन ने महत्वपूर्ण भूमिकाएं निभाई हैं। यह फिल्म 18 सितंबर को रात 8 बजे सीधे ज़ी सिनेमा पर रिलीज हो रही है।

- हाथी मेरे साथी अब डायरेक्ट-टू-टेलीविज़न रिलीज़ के लिए तैयार है, इस बारे में आपका क्या कहना है?

डायरेक्ट-टू-टीवी रिलीज़ दर्शकों की व्यापक संख्या तक पहुंचने का एक शानदार तरीका है। हम चाहते हैं कि हाथी मेरे साथी की कहानी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे। ज़ी सिनेमा पर सीधे रिलीज़ के साथ, दर्शक अपने घरों में आराम से इस फिल्म का आनंद ले सकेंगे। हमने यह फिल्म एक वास्तविक दुनिया के संकट को उजागर करने के लिए बनाई है, जो हाथियों और उनके पर्यावरण तंत्र के लिए खतरा है। इस फिल्म के साथ, हम कुछ बदलाव लाने की उम्मीद करते हैं।

- आपने सेट पर जानवरों के साथ बहुत करीब से काम किया। क्या इस फिल्म ने आपको उनके साथ एक नया रिश्ता बनाने में मदद की? अपना अनुभव बताएं?

प्रभु सोलोमन चाहते थे कि हम इस फिल्म को वास्तविक स्थानों पर हर संभव प्राकृतिक माहौल में शूट करें। ये फिल्म मेरे दिल के बहुत करीब है, क्योंकि मैंने हमेशा हमारे वन्य जीवन को बचाने का समर्थन किया है। मैंने कुमकी के हाथी प्रशिक्षकों के साथ 15 दिनों का एक संक्षिप्त प्रशिक्षण लिया, ताकि मैं बनदेव के किरदार में अच्छी तरह ढल सकूं। इस फिल्म ने मुझे शक्तिशाली हाथियों से जुड़ने, उनके परिवेश को अपनाने और ये जानने का मौका दिया कि उन्हेंजंगल का रक्षक क्यों कहा जाता है। मुझे अब भी याद है कि हमारे पास कुछ शॉट्स थे, जहांसभी हाथी एक साथ चले थे, और हम जमीन को हिलते हुए महसूस कर सकते थे। यही वो पलथा जब मैंने वास्तव में उनकी दमदार उपस्थिति को महसूस किया। हाथी मेरे साथी ने मुझेप्रकृति के प्रति अपने प्रेम को फिर से जगाने का मौका दिया।

- मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य बनाए रखने के लिए को-एक्सिस्टिंग (सह-अस्तित्व) की कला सीखना बहुत जरूरी है। आपके विचार से हम वन्यजीवों और मनुष्यों के बीच बंधन मजबूत रखने के लिए क्या कर सकते हैं?

एक स्वस्थ और फलदायी पर्यावरण तंत्र बनाने का आदर्श तरीका सह-अस्तित्व है। यह एक सरल अवधारणा है; हम एक दूसरे पर निर्भर हैं। अपने और प्रकृति के बीच सामंजस्य बनाए रखना जरूरी है। यह हमारी पृथ्वी को पुनर्जीवित करने में मदद कर सकता है। यदि हम सिर्फ एक दूसरे की आवश्यकताओं के प्रति ही चौकस रहें, तो भी हम समानता हासिल कर सकेंगे। हाथी मेरे साथी इसी प्रभावशाली विचार को सामने रखता है। जैसे-जैसे मैंने जंगल में काफी समय बिताया और फिल्म की शूटिंग की, यह संदेश भी मेरे अंदर समा गया। इसने मुझे प्रकृति के बेमिसाल कारनामों के करीब होने का एहसास कराया।

- जंगल में शूटिंग के अपने कुछ अनोखे अनुभवों के बारे में बताएं?

वैसे, जंगल की शांति और कुदरत के करिश्मों ने मुझे महीनों तक मंत्रमुग्ध कर दिया। हमने नेटवर्क कनेक्टिविटी के बिना दिन बिताए, और इसने मुझे वाकई इस माहौल में ढलने में मदद की। एक बार जब हमारा शूटिंग शेड्यूल शुरू हुआ, तो मुझे याद है कि मैं अपने आस-पास की हरियाली की खामोशियों में खो गया था। दिन भर की शूटिंग के बाद, हम फॉरेस्ट रेंजरों की कुछ कहानियों के साथ खुद को तरोताजा करते थे। इसने हमें उनकी दुनिया की एक अतिरिक्त झलक दिखाई। इसने हमें पर्यावरण संतुलन बनाए रखने का महत्व भी समझाया। कुल मिलाकर, यह नसिर्फ एक रोमांचक और बढ़िया शूट था, बल्कि एक सीखने लायक अनुभव भी था।

- हमें अपने आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में बताएं 

मेरी आने वाली फिल्मों में विराटपर्वम शामिल है, जो रिलीज के लिए तैयार है। मैं वर्तमान में पावर स्टार पवन कल्याण के साथ मलयालम अय्यपयम कोशियुम की रीमेक भीमला नायक की शूटिंग में व्यस्त हूं। ये सभी कहानियां बहुत ही रोमांचक हैं और मुझे कई तरह से आकर्षित करती हैं। मैं इन दिलचस्प प्रोजेक्ट्स का हिस्सा बनने के लिए वाकई उत्साहित हूं। पावर स्टार  पवन कल्याण के साथ काम करने का मौका मिलना वाकई शानदार रहा और इतने भव्य पैमाने की फिल्म में उनके साथ स्क्रीन स्पेस शेयर करने के लिए मैं आभारी हूं। अब जबकि शूटिंग ज़ोर-शोर से शुरू हो गई है, तो मैं भी इन फिल्मों के लिए पूरी तरह तैयार हूं!

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ