IRPRA

Hindi Diwas 2021: उर्दू, अरबी के वो शब्द जो अब हिंदी बोलने में किए जाते हैं ज्यादा इस्तेमाल

 


हिंदी भाषा अपने आप में शब्दों का समंदर है। हालांकि, ये इतनी उदार है कि इसने विदेशी भाषाओं को भी अपनाकर उन्हें अपने विकास का हमसफर बना लिया। शब्दों का विस्तार भाषा को ताकतवर और लंबे समय तक जीने के साथ ही लोकप्रिय भी बनाता है। यही वजह है कि समय के साथ-साथ विदेशी जातियों के संपर्क से उनकी भाषा के बहुत से शब्द हिंदी में इस्तेमाल किए जाने लगे हैं। अंग्रेजी, उर्दू, अरबी-फारसी के कई शब्द हिंदी में आए और रम गए। हिंदी दिवस के मौके पर हम ऐसे ही रोजाना के बोलचाल में शामिल हुए उन विदेशी शब्दों से आपको रूबरू कराएंगे।

अरबी

अरबी को इस्लाम की भाषा माना जाता है। इसी भाषा में कुरान-ए-शरीफ लिखी गई है। देश में इस्लाम के आगमन के साथ ही अरबी भाषा की रवायत भी शुरू हो गई थी।औलाद- संतान

अमीर- धनी

कत्ल- हत्या

कलम- लिखने का सामान

कानून- शासन के नियम

रिश्वत- घूस

औरत- महिला

कैदी- बंदी

मालिक- स्वामी

गरीब- निर्धन

फारसी

जानकर हैरत होगी कि हमारी भाषा का नाम हिंदी भी फारसी का शब्द माना जाता है। इस भाषा के कई शब्द हिंदी के होकर रह गए हैं।

अनार- रसदार फल

चश्मा- आंखों का उपकरण

जमींदार- बड़े भू-भाग का मालिक

दुकान- सामान खरीदने की जगह

नमक- खाने का सामान

नमूना- उदाहरण

बीमार- अवस्वस्थ

उर्दू

उर्दू भाषा को कई लोग हिंदी का एक रूप मानते हैं। इस भाषा के हजारों शब्द हिंदी में घुलमिलकर इसकी खूबसूरती बढ़ा रहे हैं। मसलन

अखबार- समाचारपत्र

आवाज- ध्वनि

अंदर- भीतर

आदत- आचरण

इमारत- भवन

आराम- विश्राम

अफसोस- शोक

इंकलाब- क्रांति

गजल- कविता

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ